ब्रह्मचर्य का पालन कैसे करे व अखंड गृहस्थ नियम |brahmacharya ka palan kaise kare, Rules, celibacy, students

क्या आप Brahmacharya Ka Palan Kaise Kare, ब्रह्मचर्य, पालन कैसे करें, अखंड, गृहस्थ, ( rules in hindi, video, niyam, manthanhub, yoga, practice of brahmacharya, yoga for celibacy, students,)

यदि आप भी Brahmacharya ka palan kaise kare इस प्रशन का उत्तर खोज रहे हैं तो आज आपकी इस खोज में ये लेख अच्छा पडाव साबित होगा बाकी आप आगे भी अपनी खोज जारी रखना क्योकि ये खोज ही आपको आगे तक ले जाएगी .

आज के इस लेख में आप Brahmacharya ka palan kaise kare में जानेंगे यहां जो भी जानकारी आप पढ़ेंगे ये सब जानकारी सनातन धर्म के शास्त्रों के आधार पर होगी ऐसी जानकारी आपको मिलेगी जिसको पढ़कर लगभग आपका मन शांत हो जाएगा और ब्रह्मचर्य से संबंधित सारे सवाल आपके दूर होंगे .

यदि आपके और भी कोई सवाल हों तो आप कमेंट में मुझे बताना मैं उसे इस ब्रह्मचर्य का पालन कैसे करे लेख में जोड़ दूंगा यहां मैं उन प्रश्नों के उत्तर दूंगा जिनको अधिकतर युवक युवतियां इंटरनेट पर खोजते हैं पर उन्हें ठीक ठीक जानकारी नही मिल पाती .

Brahmacharya Rules In Hindi

2022 में ब्रह्मचर्य का पालन करना इतना भी आसान नहीं है बहुत सारी रुकावट हैं  जैसे भोजन, मोबाइल, टीवी, मित्र , पडोसी , स्कुल , इन सबसे ही आपके विचार बिगड़ते सुधरते हैं परन्तु इस लेख की जानकारी आपका मार्ग आसान करदेगी ये वादा है .

ब्रह्मचर्य का पालन कैसे करे |brahmacharya ka palan kaise kare

1 महीने ब्रह्मचर्य का पालन करने से क्या होगा? (Brahmacharya For 1 Month)

यह पूछिए कि brahmacharya का पालन करने से क्या-क्या नहीं होगा ब्रह्मचर्य का पालन करने से वह सब होगा जिसके बारे में आप सोच भी नहीं सकते जैसे आलस खत्म होगा शरीर की ताकत बढ़ेगी आपकी बुद्धि का विकास होगा कमजोरी घबराहट दिल की धड़कनों का बढ़ जाना दूर होगा चेहरे पर तेज आएगा जल्दी बुढ़ापा नहीं आएगा बुढ़ापे में भी आपकी इंद्रियां संपूर्ण रूप से एक युवा की भांति कार्य करेंगी .

संपूर्ण ब्रह्मचर्य के बाद में मृत्यु भी बड़ी ही सरल हो जाएगी यदि आप साधना में उन्नति करना चाहते हैं तो आप celibacy यानी brahmacharya से मोक्ष प्राप्त कर लेंगे ऐसे ना जाने कितने कितने लाभ आपको ब्रह्मचर्य से प्राप्त होते हैं भीष्म पितामह को इच्छा मृत्यु का वरदान भी brahmacharya के तप से ही मिला था जिसमें योगी पुरुष अपनी इच्छा से शरीर छोड़ने की क्षमता प्राप्त करता है जैसे ऋषि दयानंद सरस्वती जी महाराज अपनी इच्छा से शरीर को छोड़कर गए थे।

यदि 1 महीने के brahmacharya की बात की जाए तो आपको कुछ कुछ बल और एकाग्रता और आनन्द बढ़ता मालूम होगा।

ब्रह्मचर्य का लाभ कितने दिन में दिखता है?

आपने चाहे आज तक कितने भी गलत काम क्यों ना किए हो अपना brahmacharya कितनी बार भी भांग क्यों ना किया हो. जिस दिन से आप संपूर्ण brahmacharya rules को समझ कर चिंतन मनन करके उसका पालन शुरू करते हैं तो उसके आपको 3 महीने में ही परिणाम मिलने शुरू हो जाते हैं

जब आप 1 साल तक ब्रह्मचर्य का पालन करते हैं तो आपके शरीर का कायाकल्प प्रारंभ हो जाता है और 2 सालों के अंदर आपका शरीर पूरा परिवर्तन हो जाता है और 12 साल में आप में सारी खुबिया आनी शुरू हो जाती है सारी कमियां सारी कमजोरियां दूर भाग जाती है जीवन आपका आनंद होता है जो भी आप कार्य करते हैं उसमें आपको सफलता मिलती है सफलता नहीं भी मिलती है तो आप दूसरे मनुष्य की भांति व्याकुल और दुखी पीड़ित नहीं होते हैं।

ब्रह्मचर्य में क्या करे? (Practice)

एक बार ऋषि दयानंद जी महाराज से किसी ने पूछा ही महाराज क्या आपको कोई काम नहीं सताता तब दयानंद जी ने कहा कि वह आता तो होगा लेकिन बाहर से ही लौट जाता होगा यदि आप ऋषि दयानंद जी महाराज की दिनचर्या पढ़ें तो आप पाएंगे कि वह पूरा दिन व्यस्त रहते थे उनकी दिनचर्या ऐसी थी पूरा दिन व्यस्तता में रहते थे आप चाहे तो यह वाली वीडियो देख सकते हैं जो मैंने उनकी दिनचर्या पर बनाई थी।

ब्रह्मचर्य का अर्थ (Meaning In Hindi)

ब्रह्मचर्य का अर्थ इस अर्थ में सब कुछ छुपा है ब्रह्म का अर्थ है ईश्वर और चर्य का अर्थ है पालन करना क्या पालन करना अच्छी पुस्तकों को पढ़ने का पालन करना व्यायाम करने का पालन करना ईश्वर का ध्यान करने का पालन करना शुद्ध सात्विक शाकाहारी भोजन करने का पालन करना यानी कि शुद्धता का पालन करते हुए ईश्वर के मार्ग पर आगे बढ़ना ही brahmacharya और अंतिम लक्ष्य ईश्वर प्राप्ति है यदि छोटे शब्दों में बोलूं तो ईश्वर प्राप्ति का मार्ग ही brahmacharya है .

ब्रह्मचर्य के लिए भोजन (Brahmacharya Diet )

जो भी Brahmacharya ka palan kaise kare ये सीखना समझना चाहता है जो भी ब्रह्मचारी बनना चाहता है उसे अपने भोजन Diet पर विशेष ध्यान देना पड़ता है क्योंकि भोजन की अपनी-अपनी प्रक्रति होती है जो आपके मन पर असर डालती है जैसे लहसुन है प्याज है इसकी अपने औषधीय गुण हैं जो कि अलग-अलग बीमारियों में प्रयोग करने चाहिए परंतु यदि कोई व्यक्ति अधिक मात्रा में प्याज खाता है तो उसमे कामुकता बढ़ जाती है .

यदि सबसे अच्छे भोजन की बात करें तो ब्रह्मचारी को हमेशा रसदार भोजन करना चाहिए सब्जियों में तोरी, घीया, टिंडे, अरवी, आदि रसदार सब्जियां खाने चाहिए, दालों में हरी मूंग सबसे अच्छी है, बाकी दालें भी आप खा सकते हैं।

यदि रोटी खाने की बात हो तो आपको जो और चने की रोटी खानी चाहिए बाकी सर्दियों में आप बाजरे की रोटी भी खा सकते हैं मतलब मौसम के अनुसार आपको रोटी खानी चाहिए और खूब चबा चबा कर खाना खाना चाहिए पर सब्जी की मात्रा अधिक हो और रोटी की मात्रा थोड़ी कम .

यदि फलों की बात की जाए मौसम के अनुसार कोई भी फल खा सकते हैं परंतु एक बात ध्यान रखें जैसे कि आप आम खाना चाहते हैं तो कच्चे खट्टे आम ना खाए ठीक से पके हुए मीठे ही आम खाए .

यदि खटाई की बात की जाए तो आपको Amla आंवले की खटाई छोड़कर और कोई खट्टी चीजें नहीं खानी चाहिए।

Brahmacharya Best Book In Hindi Pdf Download

ब्रह्मचर्य का पालन कैसे करें Diet PDF Downloadडाउनलोड LINK
ब्रह्मचर्य के साधन पार्ट 1 Free PdfDownload
ब्रह्मचर्य के साधन पार्ट 2 Free PdfDownload
ब्रह्मचर्य के साधन पार्ट 3 Free PdfDownload
ब्रह्मचर्य के साधन पार्ट 4 Free PdfDownload
ब्रह्मचर्य के साधन पार्ट 5 Free PdfDownload

ब्रह्मचर्य के नुकसान (Side Effects)

यदि आपके मन ये सवाल आता है की Brahmacharya ka palan kaise kare तो आपको अपने मन से ये बात निकल देनी चाहिए की इसके कोई नुक्सान भी हैं ब्रह्मचर्य आत्मा को परमात्मा से मिलाने का काम करता है तो भला इसका नुकसान क्या हो सकता है brahmacharya का कभी भी कोई नुकसान हुआ नहीं करता कुछ लोग कई प्रकार की भ्रांतियां इसके विषय में फैलाते हैं परंतु वह महामुर्ख है उन्हें जानकारी नहीं है ना जाने कहां-कहां से क्या क्या वह लोग सुन लेते हैं और गलत बताते हैं कि brahmacharya से नुकसान हो जाएगा वह नुकसान नहीं होता है आपके दिमाग में कुछ काल्पनिक बीमारियां घुसा देते हैं आप उस पर चिंतन करते रहते हैं और आपको वैसा ही परिणाम देखने को मिलता है आपको लगता है कि इससे मुझे कुछ नुकसान हुआ जबकि ऐसा नहीं है बस आपको सही मार्गदर्शन की जरूरत है .

ब्रह्मचर्य का प्रभाव कितने दिन में दिखता है

Brahmcharya का प्रभाव 3 महीने में दिखना शुरू हो जाता है जो कि 1 साल में और 2 साल में काफी अच्छी प्रकार से दिख जाता है और इसके बाद तो बढ़ता ही चला जाता है बढ़ता ही चला जाता है और आपका जीवन आनंद में हो जाता है .

ब्रह्मचर्य के नियम PDF

ब्रह्मचर्य के नियमों से संबंधित पीडीएफ के लिए आप यहां से पीडीएफ डाउनलोड कर सकते हैं .

ब्रह्मचर्य मंत्र

ब्रह्मचर्य का पालन करने के लिए सबसे अच्छा मंत्र गायत्री मंत्र है मैंने एक लेख लिखा हुआ है विस्तार से किस प्रकार गायत्री मंत्र का जाप करना है एक बार आप इसे पढ़ ले तो आपको पूरी जानकारी मिल जाएगी .

एक महीने का ब्रह्मचर्य

उत्तर, 1 महीने तो कह दिया brahmacharya का पालन करते हैं तो आपको कुछ कुछ अच्छे परिणाम मिलने शुरू हो जाते हैं .

गृहस्थ जीवन में ब्रह्मचर्य का पालन कैसे करें?

गृहस्थ जीवन में Brahmacharya ka palan kaise kare ये सवाल हर कोई पूछता है brahmacharya का पालन करने के लिए पति पत्नी दोनों को समझना होगा देखिए पहले के काल में जब वैदिक युग था जब गुरुकुल थे तो लड़के लड़कियों के गुरुकुल गांव से दूर अलग-अलग जंगलों में हुआ करते थे जो लड़कों के गुरुकुल थे उसमें कोई कन्या कोई महिला प्रवेश नहीं कर सकती थी और जो कन्याओं के गुरुकुल थे उसमें कोई भी बालक लड़का पुरुष पिता कोई भी प्रवेश नहीं कर सकता था जब युवावस्था को प्राप्त होते थे तब उनकी विद्या के अनुसार समान गुण (कुंडली नहीं असली गुण) समानता देखकर विवाह किया जाता था जिसको भी विवाह करना था विवाह करता था जिसको नहीं करना था वह नहीं करता तो इस प्रकार ब्रह्मचर्य आश्रम से गृहस्थ में जाते थे तो उनको कभी भी कोई समस्या नहीं होती थी उनका मुख्य उद्देश्य एक उत्तम संतान प्राप्त करना होता था जो देश समाज और धर्म का भला करें .

परंतु आज का माहौल काफी ज्यादा विपरीत है आज बचपन से brahmacharya शिक्षा नहीं दी जाती ऐसी व्यवस्था ऐसी सुविधा नहीं मिलती है उसका सब कुछ विपरीत मिलता है तो जब भी भाव जागता है फिर युवक-युवतियों पता चलता है कि ब्रह्मचर्य क्या है तो उसकी तरफ बढ़ने का प्रयास करते हैं तो कई बार महिला बढने का प्रयास करती है तो पति नहीं मानता और पति बढने का प्रयास करता तो महिला नही मानती है फिर घर में कलह और झगड़े शुरू हो जाते हैं .

और देखने में यह भी आता है कि काफी सारे पाखंडी लोग brahmacharya के नाम पर गृहस्थी का जीवन बर्बाद कर देते हैं ऐसा देखने में आया है कि कुछ पाखंडी के प्रभाव में आकर महिलाएं झूठे ब्रह्मचर्य की तरफ बढ़ती हैं जो भ्रांति उन पाखंडीयो ने उनके दिमाग में डाली होती है जिसके कारण उनका परिवार टूट जाता है क्योंकि शास्त्र सम्मत जानकारी उन्हें नहीं होती है पाखंडीयों का एक ही उद्देश्य है कि वह अपने किस प्रकार फॉलोअर्स बनाएं तो आप उनसे दूर बने रहे उदाहर्ण के लिए वो शांति वाले उन्होंने तो परिवार उजाड़ दिए .

गृहस्थ जीवन में यदि आप brahmacharya का पालन करना चाहते हैं तो पति पत्नी दोनों को बैठकर अपने उद्देश्य को निर्धारित करना होगा कि हम किस लिए ब्रह्मचर्य का पालन कर रहे हैं और जो हमारे शरीर में वीर्य बनता है यह क्या है और हमारा मनुष्य जन्म का उद्देश्य किया है यदि आप brahmacharya का पालन करके फिर संतान उत्पन्न करते हैं तो अच्छी और बुद्धिशाली संतान होगी स्पष्ट रूप से आपको उसके अंदर अलग प्रभाव दिखाई देगा और आप बैठकर यह निर्धारित करें कि यदि आप ब्रह्मचर्य का पालन करते हैं तो आप रोगी नहीं रहेंगे आप आनंदित रहेंगे और आप ईश्वर उपासना को ढंग से कर पाएंगे ये जनम भी और अगला जन्म आपका अच्छा होगा .

यदि माता-पिता brahmacharya का पालन करते हैं तो उनकी संतान का निर्माण भी बहुत अच्छा होगा माता पिता अपनी संतान के लिए पता नहीं क्या-क्या त्याग करते हैं इस प्रकार से आप बातचीत कर सकते हैं आपस में कि हमें अपने बच्चों का निर्माण करना है उनको शिक्षा देनी है हमको बलवान बुद्धिशाली बनाना है तो उसके लिए हमारा सदाचारी होना आवश्यक है इस प्रकार से आप बातचीत करें और एक निर्णय पर पहुंचे बिना किसी कलह के बिना किसी झगड़े के आशा करता हूँ की अब आप जान गए होंगे की गृहस्थ जीवन में brahmacharya ka palan kaise kare .

Brahmacharya Tables

सवाल जवाब
ब्रह्मचारी कैसे बनते हैं?मन को जित कर
ब्रह्मचर्य का पालन कब कब करना चाहिए?जीवन भर
ब्रह्मचर्य में क्या करे?ईश्वर प्रणिधान बनाकर पुरे दिन व्यस्त रहे
ब्रह्मचर्य का लाभ कितने दिन में दिखता है?1 साल में अच्छा प्रभाव सबको दिखने लगता है
ब्रह्मचारी को क्या क्या नहीं खाना चाहिए?तेज मिर्च मसाला , लाल मिर्च , बासी भोजन , मॉस ,अंडा आदि नहीं खाना

ब्रह्मचर्य के फायदे (benefits of brahmacharya in hindi)

जब हम किसी भी चीज के लाभ जानलेते हैं तो उसे प्रयोग करने की इच्छा हमारी और अधिक बढ़ जाती है फिर वो मनुष्य अधिक लगन के साथ उसमे लग जाता है तो आइए जानते हैं ब्रह्मचर्य के फायदे

  • रक्त शुद्ध होगा ।
  • आयु बढ़ेगी।
  • रोग प्रतिरोधक शमता बढ़ेगी
  • शरीर का बल बढेगा।
  • मिर्त्यु को जितने की शमता आएगी अर्थाथ योग करते करते खुद से शरीर छोड़ने की शमता उत्पन होगी।
  • मिर्त्यु का डर मन से निकल जाएगा।
  • एकाग्रता बढ़ेगी।
  • असफलता के बाद भी निराशा आपके ऊपर हावी नहीं होगी।
  • एक अलग ही आनन्द जीवन में बना रहेगा।
  • दुसरे व्येक्ती जल्दी थकेंगे लेकिन आपको अधिक काम के बाद भी ज्यादा थकान नहीं होगी।
conclusion

इस लेख का निचोड़ ये है की यदि आप Brahmacharya ka palan kaise kare इसे समझना चाहते हैं तो आपको अपने मन को वश में करना होगा खुद को व्यस्त रखना होगा आलसी बन कर नहीं जीना है तब आप कभी भी नहीं भटक सकते है और ध्यान आपको जरुर करना है रोज ब्रह्मचर्य का पालन करना यदि कुछ छुट गया हो तो आप कमेन्ट में पूछिए

6 thoughts on “ब्रह्मचर्य का पालन कैसे करे व अखंड गृहस्थ नियम |brahmacharya ka palan kaise kare, Rules, celibacy, students”

  1. Bhaiya me 19 saal ka hoon, pichhale 6 saal se atyadhik hasthmethun aur porn video dekhne ke karan rojana swapndosh hota hai jisse me atyadhik kamjor hoo. Mene 1 mahine tak apne virya ko hi pi liya tha aur meri aawaz bhi dhimi ho gayi hai, ladkiyo ki tarah hi aawaj nikalti hai jisse mera sabhi majak udate hai. Bhaiya me bhi brahmacharya ka palan karna chahta hoo lekin raat ko ling se chipchipa Pani nikalta hai. Bhaiya mera margdarshan kare

    Reply
    • Please reply, bhaiya virya peene ke baad jananang daad bhi hogaye. Me Brahmacharya ka palan karna chahta hoo lekin raat ko neend me ling se chipchipa Pani nikalta hai.

      Reply
    • Bhaiya me 19 saal ka hoon, pichhale 6 saal se atyadhik hasthmethun aur porn video dekhne ke karan rojana swapndosh hota hai jisse me atyadhik kamjor hoo. Mene 1 mahine tak apne virya ko hi pi liya tha aur meri aawaz bhi dhimi ho gayi hai, ladkiyo ki tarah hi aawaj nikalti hai jisse mera sabhi majak udate hai. Bhaiya me bhi brahmacharya ka palan karna chahta hoo lekin raat ko ling se chipchipa Pani nikalta hai. Bhaiya mera margdarshan kare

      Reply virya peene se jananang daad bhi Ho gaye pichhle 3 saal se, Brahmacharya ka palan kaise karu bhaiya meri madad karo

      Reply
  2. Please reply, bhaiya virya peene ke baad jananang daad bhi hogaye. Me Brahmacharya ka palan karna chahta hoo lekin raat ko neend me ling se chipchipa Pani nikalta hai.

    Reply
  3. Bhaiya me 19 saal ka hoon, pichhale 6 saal se atyadhik hasthmethun aur porn video dekhne ke karan rojana swapndosh hota hai jisse me atyadhik kamjor hoo. Mene 1 mahine tak apne virya ko hi pi liya tha aur meri aawaz bhi dhimi ho gayi hai, ladkiyo ki tarah hi aawaj nikalti hai jisse mera sabhi majak udate hai. Bhaiya me bhi brahmacharya ka palan karna chahta hoo lekin raat ko ling se chipchipa Pani nikalta hai. Bhaiya mera margdarshan kare

    Reply virya peene se jananang daad bhi Ho gaye pichhle 3 saal se, Brahmacharya ka palan kaise karu bhaiya meri madad karo

    Reply

    Reply
  4. Bhaiya me 19 saal ka hoon, pichhale 6 saal se atyadhik hasthmethun aur porn video dekhne ke karan rojana swapndosh hota hai jisse me atyadhik kamjor hoo. Mene 1 mahine tak apne virya ko hi pi liya tha aur meri aawaz bhi dhimi ho gayi hai, ladkiyo ki tarah hi aawaj nikalti hai jisse mera sabhi majak udate hai. Bhaiya me bhi brahmacharya ka palan karna chahta hoo lekin raat ko ling se chipchipa Pani nikalta hai. Bhaiya mera margdarshan kare

    Reply virya peene se jananang daad bhi Ho gaye pichhle 3 saal se, Brahmacharya ka palan kaise karu bhaiya meri madad karo

    Reply Amit ji sir, please Arya samaj meri madad karo

    Reply

Leave a Comment